A Beautiful Face

963f62e3750e12f03801961e9611ca53--collage-collage-collage-ideas.jpg

 

 

“A beautiful Face i search everyday, to fall in love with someone new, but baby there ain’t none like you”

“Like in the game of chess, the white and black always mess, for me your the one who i locked up in my treasure chest. .

For i have been check mate by you a million times, just watch me foolishly make these words rime”

“I chase my dreams, that i see every night. The subconscious in me, shows glimpses of us in paradise”

“I shout out louder than i used to do, calling your name in the empty spaces, tell me what to do. .

I feel more for you than i used to do before, thinking about you in the day and at night. I sleep with my eyes open in the light”

“lost in time, it’s tough to combine the past and the future of mine. .

All i need is you in my present, to define. My future, which is lost in time”

I SEE YOU (Screen Play)

 

I found this in the trash can, something that I had written during my college days. Just had a thought of uploading this one to begin with!

 

 

INT.
IN A ROOM
MORNING

SCENE 1 : A photographer is sipping hot coffee from his mug and standing near his window. He is staring outside for a while, in the room his camera equipments are kept on the table with his laptop. He makes himself comfortable on the couch near the table and starts going through the photographs he clicked recently. On the table other than his phone, equipments, camera , table clock and laptop there is an engagement ring which the camera takes notice of. He then puts aside his laptop and takes a moment for himself, holding the ring on the tip of his fingures.He keeps the ring aside and stares at a photograph of this girl from his wallet. His phone begins to vibrate and he recieves a message which says,
“Deadline for photograph submission is 2 days”
He reads the message and goes to freshen up after keeping the ring back on the table. While the photographer is getting ready to leave the room, the camera takes notice of these letters which are scattered all over his bed, the letters indicate that they belong to the photographer, his name is written on all of them,
“WITH LOVE TO ARYAN FROM TRISHA”
The photographer enters the frame again he leaves his wet towel on the bed and starts to pack his bag. He carries everything except the ring which is still kept on the table. The photographer exits the frame, carring all that he requires for his shoot. The camera is fixed to the ring kept on the table, the lights go off and the doors close.

EXT.
THE CEMENTRY
DAY

Scene 2 : Aryan is standing in front of a grave holding a rose. He is figiting with his camera and mumbling to himself. He stares standing for a while, a tear drop rolls down his cheek, putting the rose on the grave he wipes his tears and exits the frame. The camera takes notice of the rose that he kept on the grave.

EXT.
ON THE STREETS
DAY

Aryan is now on the streets, walking near the pavement. He seems lost , looking around for something . He goes ahead and notices some street children playing cricket on the pavement, he begins to click their photographs but then ignores them and walks away exiting the frame. He then stands in front of the zebra crossing waiting to cross the road, he clicks the photograph of the traffic signal. As the signal turns red ARYAN starts to cross, when suddenly a person pulls him back. He looks at the signal again and puts his hands on his forehead. He then proceeds when the signal is green again. While strolling down the streets of kolkata, he clicks photographs of a rickshaw puller, of various vendors and sellers on the streets. ARYAN is still not happy with his choice of subject. He seems dissapointed and stands beside the metro station staring at random people walking by.

CONTINUED
EXT.
OUTSIDE THE METRO STATION
DAY

A person enters the frame, where ARYAN is standing, he points out at his wrist and signals ARYAN asking him the time. ARYAN does not take notice of the man, he is lost staring at somebody else. He ignores the man and starts to walk towards this girl who has mesmerized him she is dressed in red, near the metro station. She is standing at the street shop near the station checking out some junk beads to wear on her hands. ARYAN clicks a photo of this girl, as soon as he does this she walks away checking other shops out on the streets. ARYAN begins to follow her, his mood has changed we see him following his subject with a smile on his face everytime he clicks a photograph of her. ARYAN feels this uncanny joy when he stares at the girl. The girl is now trying wooden bangles from a street shop, she looks really pretty checking her self out in the mirror while adjustng the bangles. ARYAN is smiling too, he looks really happy clicking the photographs of this girl whithout letting her notice him. The girl again moves ahead to this guy selling cotton candy on the streets, she buys one and stands there eating it. It looks as if she is waiting for somebody. ARYAN is still clicking her photographs, but when the girl looks at her watch he stops and stares at her for a moment. He then looks towards an empty road.

CONTINUED
EXT.
EMPTY ROAD

MONOCHROME : ARYAN and the girl are walking on the empty road holding hands. They both look very happy and in love.

CONTINUED
EXT.
ON THE STREETS

COLOUR : ARYAN looks towards the cotton candy shop again and sees that the girl has dissapered. He then starts to follow this girl getting lost in the crowd wearing a red top but when he puts his hands on her shoulder he sees that its somebody else. He really gets upset and starts to find her in the crowd. Exhaling hard he starts to run skipping footsteps , tripping over barricates that are easily noticable on the road, figiting with his camera again. He starts mumbling, sweting , gasping for beath and he runs in an absured manner that he is dropping the hawkers goods on the streets. Stepping over coblers shoes , he quickly exits the frame in a state of confusion and anxiety within himself.

INT.
INSIDE A ROOM
NIGHT

The frame is fixed on the table where the ring was kept. The lights switch on and ARYAN enters the frame, he keeps his camera on the table and barely managing to switch on his laptop he inserts the USB to take a quick glance at the photographs he clicked. He is really tensed, in a confused state he goes on entering his windows password incorrect. The screen open to a photo on the deskstop of TRISHA and ARYAN , where she is wearing the same red dress. He is biting his nails tryng to figure out the mystery behind TRISHA’S existence. The connected USB device brings open an array of photographs clicked by him. He starts to see the photographs, to his shock his frozen fingures barely managing to move on to the next picture he sees something that is humainly impossible. Zooming right on to the screen, were all the pictures that he had taken. Showing every minute detail except the girl .Not one but all of them had the mysterious girl missing. He then pick up one of the letters that TRISHA had sent him.
Shocked! he gets up from his couch in a state of bewilderment grabbing on to the only support that his hands could hold on to, failing in the process he falls on the floor on his back with the letter cringed in his hand. Too his horrow the wardrobe opens out to the falling red dresses, that he had once gifted TRISHA.

CONTINUED
INT.
INSIDE A ROOM
NIGHT

MONOCHROME : ARYAN is on the the floor, there is blood dripping out from the red dresses. The blood is now soaking the letter where his and trisha’s name is written. While his eyes are being shut the ambulence sound heard in the background. Followed with a blank screen and heart beat sound with visual text,
“I SEE YOU”

SOUND: Morning Ambience, traffic Ambience, Busy street sound, sound of ambulance, heart beat , dripping of blood.

क्यों।

क्यों।

क्यों मैं समझ न पाऊँ
कैसे तुझको समझूँ
तेरी याद मुझको आये
तोह कुछ इश्क़ सा छु जाए।

तू मेरी मैं तेरा।
हाँ
तू मेरी मैं तेरा।
कैसे तुझको मैं यह बताऊं।

क्यों।

तेरी यादे, वोह हर कही प्यारी बाते
हर रोज़ मुझे सताए,
हर लम्हा तेरी यादों में बीत जाये।

तू मेरी मैं तेरा।
हाँ
तू मेरी मैं तेरा।
कैसे तुझको मैं यह बताऊं।

क्यों।
लोग इश्क़ में है कहते
जब प्यार साथ न हो तोह
एक गम आशिक़े है सहते
और उसी के ख़यालून में रहते

यह इश्क़ तोह बरबाद है, यह इश्क़ ही आबाद है
लेकिन जो इश्क़ करता है वोह कैदी नहीं
आज़ाद है।

तू मेरी मैं तेरा।
हाँ
तू मेरी मैं तेरा।
कैसे तुझको मैं यह बताऊं।

तुझको खुदा बना दिया।

तूने दिल की अनकही आवाज़ सुन कर मेरे रूह को जगा दिया, साँसों में सांस भर कर, मेरे दुःख को मिटा दिया।
क्या कहूँ ओह यारा मैंने तुझको अपना खुदा बना दिया,

तन्हाई में साथ देकर, हातो में हाथ रख कर, तूने चलना सीखा दिया।
क्या कहूँ ओह यारा मैंने तुझको अपना खुदा बना दिया,

मेरे दिल से नफ्रत मिटा कर, मुझे खुद से प्यार करना सीखा दिया।
क्या कहूँ मैं यारा मैंने तुझको अपना खुदा बना दिया

 

एक कहानी।

ext.jpeg

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

एक लड़का था किसी पे वोह मरता था, जिसके लिए वोह हर रोज़ सजता सवरता था
इश्क़ है उसको वोह कहने से डरता था
लेकिन हर रोज़ वोह बस स्टॉप पे उस लड़की को देखने के लिए
इंतज़ार करता था।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

एक लड़की थी, जो एक बात से बेखबर थी, जिसकी आंखे जब झपकती तोह दिल घ्याल कर देती थी
हातों में रंग बिरंगी चूड़ियाँ खान खान करती थी और माथे पे बिंदिया उसे बाकि लड़कियों से अलग कर देती थी

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

उस लड़के को एक बात समझ न आता था अपनी प्यार की बाते वोह सब को सुनाता था बस उस लड़की को कहने से घबराता था
और बात उस बुद्धू को कोई न समझाता था।

वोह लड़का कुछ ऐसा था शीशे में खड़े एक पुतले जैसा था
जब जब वोह उस लड़की के सामने से गुज़रता था
उसके होठ तोह बोलते लेकिन आवाज़ नहीं आती थी
क्या कहूँ यारो प्यार मैं निकम्मा हो गया था बेचारा रौशनी में भी अँधा हो गया था

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

एक दिन उस लड़की को अपने इस आशिके के बारे में खबर पड़ी, उसने यह निर्णय लिया
अपनी एक सहेली से पता कर के अपने इस आशिके के बारे में जानकारी लिया
न जाने उसने ऐसा क्यों किया, आशिको की कमी उसके ज़िन्दगी में नहीं थी
शायद सच्चे प्यार के तलाश में वोह भी कही खड़ी थी।

क्या कहूँ यारो उसने यह थाना की उस लड़के से बात करेगी, दोस्ती की हाथ भड़ाकर उसके आँखों में अपना प्यार पड़ेगी।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

जो अगले दिन उस लड़के ने बस स्टॉप पर इंतज़ार किया, उसने एक पत्र में अपने प्यार का इज़हार किया
सोचा जो उसने सिर्फ उस लड़की के हातों में थमा देगा, शायद इंकार से अपने दिल को टूटने से बचा लेगा।

क्या कहूँ दोस्तों उस दिन वोह लड़की न आई, लड़के ने अपनी जुताई हुई हिम्मत फिर कभी न पाई।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

वोह लड़की उस दिन बस स्टॉप पे इस लिए नहीं आई, जो मर गया था उसका भाई
एक हादसे में छोड़ दी थी उसके दिल में एक गहरी तन्हाई
न भूक न प्यास उसे लगती थी ,भाई के खोने का गम वोह अब पल पल अपने दिल में रखती थी।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

लड़के का क्या हाल था मत पूछो जब उसे यह बात खबर पड़ी तोह क्या हुआ यह सोचो
भूल गया वोह सारे इरादे, तोड़ गए उसने जो बांधे थे अपने प्यार धागे,
कहा युंह उसने
“जो भी हो वोह समय बताएगा, सच्चा प्यार होगा तोह वोह फाई लौट कर आएगा।

बोल कर अपने दोस्तों को चला गया वोह पढाई करने किसी दूसरे शहर, जो था पटना
दोस्तों ने कहा जाते वक़्त अब जो कदम भदया है उससे कभी न हटना।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

लड़की जो थी वोह गम सूम रहती थी, रब ही जाने की वोह कहाँ खोई रहती थी
भाई की याद उसकी हर कही बात उसके ख़यालो में आती थी, जब जब झपकती उसके आँखों में आंसू भर आती थी

उसके बाबूजी ने यह निर्णय लिया उसके पढाई के लिए किसी और शहर में जाने का बंदोबस्त किया।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

जो लड़का था उसने नए शहर में दिन कुछ ऐसे थे काटे, किताबों में डूब कर वोह भूल गया अपनी सांसे
एक आशा थी उसको की कभी तोह दबाई हुई उस लड़की की तस्वीर अपने दिल में वापस सामने आएगी
हकिकत में उसने सोचा की रब ने उसकी प्यार को आज़माई थी।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

तोह चली वोह एक नए शहर दूर हो कर अपने घर से, आह पहुंची वोह पटना एक बस से।
तक़दीर ने क्या लिखा था उसके लिए वोह परख न पाई, एक नए शहर में आकर वोह अपनी सारि दुख पीछे छोड़ आई।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

वोह रोज़ चाय के स्टाल पर अपने इश्क़ को याद करता था, क्या कहूँ दोस्तों वोह अंदर से घुट घुट के मरता था
दिल की बाते वोह दिल में ही रखता था
उम्मीद थी उसको इसलिए शायद उसका दिल धड़कता था।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

एक दिन जब बारिश हुई तोह उस लड़की को बहुत मुश्किल हुई
अपनी मौसी के घर पहुंचने में, एक नए शहर जिसके रासतो से वोह अंजान थी
रुक गए एक बड़े नीम के पड़े के नीचे, खड़ी रहीं वोह बारिश के थमने के इंतज़ार में।

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी।

उस बारिश में फसा था वोह लड़का, मोटरसाइकिल जो उसकी बांध पड़ी थी
दूर देखा तोह एक पड़े के नीचे कोई लड़की कड़ी थी
सोचा जो उसने मोटरसाइकिल को पार्क कर के वोह चला जायेगा उस पड़े के नीचे
उसे क्या पता था की उसकी तक़दीर ही उसको वहां की और खींचे।

भीगते भीगते चल पड़ा वोह उस दिशा में, जहाँ कड़ी थी वोह लड़की जिसकी तस्वीर थी उसके दिल और दिमाग में

एक कहानी कुछ ऐसे लिखी थी, दो ज़ुबानी कुछ ऐसे कही थी
जिस कहानी का कोई अंत न हो, वोह कहानी मैंने लिखी थी।

Miss Pocket

 

Sunday morning at the carnival, i was standing among the crowd, to be entertained by a magician play tricks in front of my eyes, waiting there for a while. I thought to go through my pocket watch for the time, before i chucked a penny for the magician to bid goodbye.

That’s when i noticed the chain hanging by, with the watch stolen or lost, i wondered when and how.

For it was a precious marine watch given to me by a professor at Harvard, who lived near by.

So in search, i looked around and guess what i found?

Not the watch, but the madam who i caught picking on a man for some dollars, by a delicate hand on his Kroch.

Aloof from the tragedy the poor man was checking out the magician light a bulb without sockets.

So i started to follow her for a while, finally a boring sunday morning had something in surprise.

For i said, Miss Pocket i understand what you do for yourself, that the locket on your neck belongs to someone else. Waiting in the crowd looking for the guy to give you all that you seek, not knowing were would the money come from in the following week.

But my eyes caught that look on your face, the greed to get what you want i felt disgraced. A thought that struck my conscious at that time, i wished why can’t a woman so beautiful so fine could just be mine.

But i forgot it all when i recalled the name i gave you, it’s your deeds that have made you.

Miss Pocket

ओह जाना।

 

 

कैसे कहूँ मैं, न खुश रहूँ मैं, अधूरा रहूँ मैं बिन तेरे।
खुद से कहूँ मैं, न चुप रहूँ मैं बैठा रहूँ मैं
तेरे लिए. . .

ओह जाना, ओह जाना समझाना ,
तू मुझको बताना, यह क्या इश्क़ है जाना,
मेरा दर्द मिटाना, मुस्कुरा कर तू गले लग जाना।

ओह जाना, ओह जाना।

भीगा रहूँ मैं, तन्हा रहूँ मैं , सोचा करून की तू किधर
चलते हुए कभी रास्तों पर, खोये हुए न जाऊं मैं घर
फिरता रहूँ तेरी गलियों में, सोचु मैं यह तू कभी आवाज़ दे
दुआ करू तू मुझको पेहचान ले. . .

ओह जाना, ओह जाना समझाना ,
तू मुझको बताना, यह क्या इश्क़ है जाना,
मेरा दर्द मिटाना, मुस्कुरा कर तू गले लग जाना।

ओह जाना, ओह जाना।

अब क्या करू मैं, किस से कहूँ मैं, डूबा रहूँ मैं बिन तेरे
अकेले पन की तोह आदत नहीं, दूर हो जाये जो तू मिले कही
दिल की आवाज़ कुछ यह कह रही
तेरे बिना तोह कुछ भी न सही. . .

ओह जाना, ओह जाना समझाना ,
तू मुझको बताना, यह क्या इश्क़ है जाना,
मेरा दर्द मिटाना, मुस्कुरा कर तू गले लग जाना।

ओह जाना, ओह जाना।

 

कुछ अनकही बाते।

क्यों की मैं हूँ कही, और तू है कही, हम जुड़े हैं वही,
सपनो के धागे से, आंखे बंद करू या अंधेरो में चालू
मुझे रौशनी मिले तेरे आने से. . .

मैं तनु इतना प्यार करून, तेरे राहे मैं तकु
हर रोज़ यह कहूँ, ओह कुड़ी तू जो हसदी है
मेरे दिल विच वोह हसी बस्दी है।

क्यों की मैं बेखबर, न जानू तू किधर, बस देखु भी जिधर
तेरी याद आंदि है,
खुद से बाते मैं करू या तुझसे मैं कहूँ,
जब जब आंखे बंध करू, तू सामने आती है

मैं तनु इतना प्यार करून, तेरे राहे मैं तकु
हर रोज़ यह कहूँ, ओह कुड़ी तू जो हसदी है
मेरे दिल विच वोह हसी बस्दी है।

तोह तू सुन्न बेफिक्र, न पूछ तू मगर, मैं रुका हूँ उधर
तेरी आंखे पहुंचे न जिधर,
सोचु के करून, तुझको रोक कर कहूँ

जो तू न मुझे अप्नाती है, तोह क्यों हर रोज़ मेरे सपनो में आती है।

ज़रा सोच तू मगर, मैं बैठा हूँ इधर, साँसे रूक जाये अगर
क्या तुझको होगी यह खबर
सोचु के करू , तुझको रोक कर कहूँ, अब यह दूरी न सहूँ, कब तक ऐसे मैं जीयूं

मैं तनु इतना प्यार करून, तेरे राहे मैं तकु
हर रोज़ यह कहूँ, ओह कुड़ी तू जो हसदी है
मेरे दिल विच वोह हसी बस्दी है।

परिन्दे

bird iainmacarthurओह परिंदे,

सुन्न ज़रा, बस्ता है तू कहाँ
बादलों को चीर कर, आसमान को चुम कर
अपनी राहें तू बना

ओह परिंदे

जब बादल बरसते, तोह तुम राह तकते, की जाऊं तोह जाऊं कहाँ
पड़े टी डॉली पर थोड़ी से छाओं में, देखे तू भीगे जहाँ
ओह परिंदे, ओह परिंदे

मन ही मान हवाओं के लेहरों के संग, तू चाल तू चाल उड़ कर वहां
तेरा दिल करे जहाँ
ओह परिन्द, ओह परिंदे

पंख फैलाकर तू, मन को बहलाकर, अपनी आज़ादी को तू यह न बेकार कर
उड़ कर वहां तेरा दिल करे जहां

ओह परिंदे, ओह परिंदे।

The Last Train To Lahore

3

 

ओह मुसाफिर।

रुक जा ज़रा, तेरी मंज़िल उतनी दूर नहीं
दिल तोह तेरा हिंदुस्तान का मगर घर लाहौर में है कही

ओह मुसाफिर।

थम जा ज़रा, मूढ़ कर देख तोह हम खड़े हैं वहां
मिटटी की खुशबू, गंगा की लेहेर एंड दिलो में दुआ है जहां

खुदा को तू अपने याद कर ज़रा, तोह समझ जायेगा यह जहाँ,
जिस ज़मीन को तू छोड़ कर जा रहा है
वोही ज़मीन तू पायेगा वहां।

 

संभल जा

Smoking Weed.jpg

 

संभल जा

संभल जा ओह बंदे । संभल जा।

अपने आदत को यूह तू बदल जा
हाँ मैं कहता की दुनिया तोह सीधी नहीं,
हाँ मैं कहता की हर इंसान सच्चा नहीं,
सबके नीयत और इरादे भी पक्के नहीं,
मगर खुद को यूह तू बदल दे
जो न सब कर सके वोह तू कर दे
बदल जा,
ओह बंदे संभल जा।